Loading...

Ghazal Shayari

ThePoetofLove.In has lots of Urdu_Ghazal_Shayari Poetry and Ghazal Lyrics. Feel free to add your own Ghazal_Shayari and Ghazal_Lyrics here.

Ghazal is a collection of Sher's (couplets) which follow the rules of 'Matla', 'Maqta', 'Beher', 'Kaafiyaa' and 'Radeef' which is little longer than other forms of poetry and contains more words and mostly written in 6 to 10 lines. New_Ghazal_ShayariUrdu_Ghazal_Shayari and Ghazal_Poetry are the keywords of this shayari. Here you can learn and read latest Urdu Ghazal Shayari.  Because, we have some of the best_sad_ghazals and romantic_ghazals available on the internet in Hindi and English Script and you can check another categories ishq shayari, love shayari, romantic shayari and sad shayari .

ये उदास क्यों करने लगा है तेरा अब इश्क़ मुझे | Ghazal Shayari

Loading...

गैर के जिस्म में भी तुम्हारा अक्स ढूंढा करता हूँ
मैं तुम्हारी तलाश में कहाँ-कहाँ नहीं भटकता हूँ
मोहब्बत की नस्लों को ही जो मिटा देना चाहती हों
मैं ऐसे रस्मों-रिवाज़ों को जूते की नोक पे रखता हूँ
तुम मिल कर फिर से बिछड़ गए तो क्या होगा
तुम्हारी जुस्तजू में निकला तो हूँ मगर डरता हूँ
ये उदास क्यों करने लगा है तेरा अब इश्क़ मुझे
उस इश्क़ को क्या हुआ मैं जिससे राहत पाता हूँ
तुम्हारा ग़म अब दिल के लहू में भी घुल गया है
तुम्हें जान के दुःख होगा के मैं अब लहू थूकता हूँ
दिल तो निसार कर ही चूका था मैं कब का तुम पर
इक जां बची थी लो आज वो भी निसार करता हूँ
shayari, new shayari, latest shayari, ghazal, ghazal shayari
07/12/2018 11:49AM
#SunnySinghAkash

Loading...

Ghazal Shayari, Ye Jo Ishq Hai Na Fana Hone ka Bas Jazba Hai

Ishq Shayari, 21st century Ishq Ghazal shayari

रूहों के लिए जज़ा, जिस्मों के लिए सज़ा है
ये जो इश्क़ है न फ़ना होने का बस जज़्बा है

तेरे बदन की जो खुशबू नहीं जिस फ़ज़ा में
मुझको रास ना कतई ऐसी आब-ओ-हवा है

छाई हुई है आसमां पे तेरी ज़ुल्फ़ की घटा
हर फूल का यौवन तेरे बदन की फ़ज़ा है

मेरे दिल पे जो करते हो महसूस ज़ख्म तुम
वो ज़ख्म नहीं तेरा नक़्श-ए-कफ़-ए-पा है

Loading...

मैंने आज फिर छेड़ दिए तेरे किस्से सरेआम
मुझ से आज फिर से दिल बहुत ही खफ़ा है

New 21st Century Ishq Shayari

ishq shayari, ghazal shayari, new shayari 2019 

27/11/2018 9:28 AM
#SunnySinghAkash

Loading...

Ghaal Shayair | मैं तो बस लहर हूँ, तुम समंदर हो

Zindabad Shayari | All Time Superhit Shayari

मेरा तो बस तुम ही इक मुक़दर हो
मैं तो बस लहर हूँ, तुम समंदर हो

तुम हो तो फिर नहीं डर किसी का
चाहे ही मेरे आगे फिर लश्कर हो

मैं उतर चूका हूँ अब तेरी आँखों में
तेरी आँखों में चाहे फिर भंवर हो

मैंने तमाम सफर पे चाहा यही के
तेरी ज़ुल्फ़ सा कोई इक शज़र हो

Loading...

ओढ़ लिया इश्क़ ने वफ़ा का दामन
अब दुनिया चाहे खंज़र चाहे पथर हो

Mushaira Ghazal Shayari

ghazal, new shayari, 2019 shayari

 

Loading...

Ghazal Shayari, Fir Bhi Mere Man Ko Tu

Urdu Shayari in Hindi

हर्फ़ - हर्फ़ में तेरी खुशबू अच्छी लगती है
मुझे ग़ज़लों से तेरी गुफ़्तुगू अच्छी लगती है
(गुफ़्तुगू - conversation)

माना हासिल सिवा तग़ाफ़ुल के कुछ नहीं
फिर भी दिल में तेरी आरज़ू अच्छी लगती है
(तग़ाफ़ुल - neglect)

मैं नहीं चाहता कोई मेरे सिवा देखे भी तुझे
तू बस मुझे मेरे ही रु-ब-रु अच्छी लगती है
(रु-ब-रु face to face, in front of)

क्यूँ ना देखें तुझे, क्यूँ ना करीब आएं तेरे
बदन की जब रंग-ओ-बू अच्छी लगती है
(रंग-ओ-बू colour and fragrance)

Loading...

वजह तुम हो तो कुछ भी चलता है फिर
रुसवाई भी मुझे कू-ब-कू अच्छी लगती है
(कू-ब-कू every nook and corner/ everywhere)

ज़माने भर के सितम किए हैं मुझ पे तूने
फिर भी मेरे मन को तू अच्छी लगती है

Urdu Shayari in Hindi Images

Urdu Shayari, Hindi Shayari

Loading...

Ghazal Shayari, Dil Ki Barbadiyon Mein Bhi Hain

Urdu Sad Ghazal - Urdu Poetry for Painful Heart

Chalne  Bhi  Do  Ye Kissa  Abhi  Kuchh  Din  Aur
Rahne  Do  Rasm-e-Wafa  Abhi  Kuchh  Din  Aur

Aankhon Mein Hain Uske Khwab Abhi Taza-Taza
Na Dekhna Gair Ko Gawara  Abhi Kuchh Din Aur

Dil Ki Barbadiyon Mein Bhi Hain Lazztein Ishq Ki
Mujhe Na Hai  Hona Achha  Abhi Kuchh Din Aur

Main Jaanta Hun Tum  Tagaful Hi Karoge Barha
Fir Bhi Chahta Hun  Kahna  Abhi Kuchh Din Aur

Tumhein Gar  Raas  Hai  Barbadi  Dil Ki  To Phir
Chalne  Do   Ye  Silsila   Abhi   Kuchh  Din  Aur

New Urdu Sad Ghazal 2018

चलने  भी  दो  ये किस्सा  अभी  कुछ  दिन और
रहने  दो  रस्म-ए-वफ़ा  अभी  कुछ  दिन  और

Loading...

आँखों  में  हैं  उसके  ख्वाब  अभी  ताज़ा-ताज़ा
न देखना  गैर को  गवारा अभी कुछ  दिन और

दिल की  बर्बादियों में  भी हैं  लज्ज्तें  इश्क की
मुझे न है  होना  अच्छा  अभी  कुछ  दिन और

मैं जानता हूँ  तुम तगाफ़ुल  ही  करोगे  बारहा 
फिर भी चाहता हूँ कहना अभी कुछ दिन और 

तुम्हें  ग़र  रास है  बर्बादी  दिल  की तो फिर 
चलने दो  ये सिलसिला  अभी कुछ दिन और 

Urdu Sad Ghazal Shayari Image

urdu sad ghazal, urdu ghazal shayari, ghazal shayari, shayari, new shayari 2018

#SunnySinghAkash
8/1/2018 8:02 PM

Loading...