Attitude Shayari Collection 1

Best Attitude Shayari

Liye  Hain  Bose  Maine  Lab-e-Ja'na  Ke  Jab  Se
Aise - Waison  Se  Munh  Ab   Lagaya  Nahi  Jata

लिए हैं  बोसे मैंने  लब-ए-जा'ना के  जब से
ऐसे - वैसों से  मुंह अब  लगाया  नहीं जाता
(बोसा - चुम्बन, kiss)

Motivational Shayari, Motivational Shayari Images, Ghazal Shayari, Today Shayari, trending shayari, new shayari, attitude shayari

Hum Nikle Hain Audh Ke Tiranga
Har Shakhs Se Mujhe Fir Nafrat Hoti
हम कभी किसी के आगे सिर झुकाया नही करते

Ab   Kya   Batayein   Ke   Kaun-Kaun  Sa   Hunar  Aata  Hai
Tere Zahan Mein Jo Hai Humein To Wo Bhi Nazar Aata Hai

अब क्या बताएं के कौन-कौन सा हुनर आता है
तेरे ज़हन में जो है  हमें तो वो भी नज़र आता है

Akl  Mein   Nahi   Baithti   Jinke   Batein   Humari
Kabhi Unhi Ke Liye  Hum Paigamber Ho Jayenge

अक्ल में  नहीं बैठतीं  जिनके  बातें हमारी
कभी उन्ही के लिए  हम पैग़ंबर हो जायेंगे

Mohabbat  Ki   Naslon  Ko  Hi  Jo  Mita   Dena  Chahti  Hon
Main Aise Rasmo.n-Rivazo.n Ko Jute Ki Nok Pe Rakhta Hun

मोहब्बत की नस्लों को ही जो मिटा देना चाहती हों
मैं ऐसे रस्मों-रिवाज़ों को जूते की नोक पे रखता हूँ

Hum Gar Chahein To Gardan Se Daboch Bhi Sakte Hain Use
Aazmane   Ko  Jo   Baar - Baar   Humara  Sabar   Aata   Hai

हम ग़र चाहें तो गर्दन से दबोच भी सकते हैं उसे
आज़माने को जो बार-बार  हमारा सबर आता है

Tumhein Gar  Raas  Hai  Barbadi  Dil Ki  To Phir
Chalne  Do   Ye  Silsila   Abhi   Kuchh  Din  Aur

तुम्हें  ग़र  रास है  बर्बादी  दिल  की तो फिर
चलने दो  ये सिलसिला  अभी कुछ दिन और

Hum   Sab    Hue    Bas   Badgumaa.n   Naa   Hue
Zamee.n   Hi   Rahe   Kabhi   Aasmaa.n   Naa  Hue

हम   सब    हुए   बस   बदगुमाँ    ना   हुए
ज़मीं   ही   रहे   कभी    आस्माँ    ना   हुए

Apne   Ahd    Ka   Pakka   Tha    Wo   Bhi
Ik    Baar    Gaya    To    Fir    Aaya    Nahi

अपने अहद का पक्का था वो भी
इक बार गया तो फिर आया नहीं
(अहद – वादा, promise)

Kabhi - Kabhi  To Ye Bhi  Makaam  Aaye  Hain  Hijr  Mein
Naa Maine Yaad Rakha Ose Naa Usne Yaad Rakha Mujhe

कभी - कभी तो ये भी मक़ाम आए हैं हिज्र में
ना मैंने याद रखा उसे ना उसने याद रखा मुझे

"Akash"  Yun  Hi   Nahi   Padha   Karti   Meri   Ghazalon   Ko  Wo
Kuchh   To   Baat   Hogi   Hi    Aakhir   Meri   Hi   Nigarish   Mein

"आकाश" यूँ ही नहीं पढ़ा करती मेरी ग़ज़लों को वो
कुछ तो बात होगी ही  आखिर मेरी ही निगारिश में

Follow Me 🙂

Sunny Singh "Akash"

Sunny Singh is a poet, author and publisher. He lives in Jawali city of India, and he has written various poems (Gazal and Nazm) in Hindi and Urdu language. He is a very creative person and after listening to his poems, fans forced to him to write stories or novels. So, from there, he tried his hand at writing.
Follow Me 🙂

Latest posts by Sunny Singh "Akash" (see all)

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Sponsored

Like on Facebook

Share This Post!

x