Wahshat e Dil | New Shayari 2020 | Sad Shayari for boys | वैरी सैड शायरी

वहशत-ए-दिलनेकहीं का भी न रक्खा मुझ को
देखना है अभी क्या कहती है दुनिया मुझ को
 
Wahshat e Dil, New Shayari 2020, Sad Shayari for boys, वैरी सैड शायरी
 
 
असर-ए-क़ैद-ए-तअ’य्युन से भी आज़ाद है दिल
किस तरह बंद-ए-अलाएक़ हो गवारा मुझ को
 
Wahshat e Dil, New Shayari 2020, Sad Shayari for boys, वैरी सैड शायरी
 
 
लेने भी दे अभी मौज लब-ए-साहिल के मज़े
क्यूँ डुबोती है उभरने की तमन्ना मुझ को
 
 
 
ख़्वाहिश-ए-दिल थी कि मिलता कहीं सौदा-ए-जुनूँ
मैं ने क्या माँगा था क़िस्मत ने दिया क्या मुझ को
 
 
तेरी बे-पर्दगी-ए-हुस्न ने आँखें खोलीं
तंग-दामानी-ए-नज़्ज़ारा थी पर्दा मुझ को
 
 
आख़िरी दौर में मदहोश हुआ था लेकिन
लग़्ज़िश-ए-पा ने मिरी ख़ूब सँभाला मुझ को
 
 
 
उम्र सारी तो कटी दैर-ओ-हरम में ऐ ‘शौक़’
इस पे सज्दा भी तो करना नहीं आया मुझ को
 
 
Follow Me 🙂

Leave a Reply

Sponsored

Like on Facebook

x