Depression Shayari | Shayari on Depression


depression shayari, shayari on depression, akelapan shayari

Depression Shayari

Depression shayari, shayari on depression, akelapan shayari
Depression Shayari, Shayari on depression, Akelapan shayari

दिल का दिल को ही अब राज़दाँ रहने दो
आज़ार-ए-जाँ है तो आज़ार-ए-जाँ रहने दो

शफ़्फ़ाफ़ आईना था मैं तो
पर वक़्त ने किया मुझे धूल है
अज़ाब कई आए मेरे दिल पे
पर क्या हुआ कहना फ़ुज़ूल है
हर हद तक की जद्दोजहद मैंने
पर अब सब मुझ को क़ुबूल है

दिल का उजड़ा हुआ ही मकाँ रहने दो
आज़ार-ए-जाँ है तो आज़ार-ए-जाँ रहने दो

मेरे लबों पे मेरी कहानी आने दो
सर से ऊपर तक पानी आने दो
रूबरू हो सकूँ जहाँ खुद से मैं
डगर ऐसी भी अनजानी आने दो
आखिर कुछ तो मिले मुकम्मल
वीरानी है तो फिर वीरानी आने दो

किसी को तो मेरे वजूद का पासबाँ रहने दो
आज़ार-ए-जाँ है तो आज़ार-ए-जाँ रहने दो

जब से दुनिया में बट गया हूँ
अपनी जड़ों से ही कट गया हूँ
अपनी ही बस्ती में अज़नबी हूँ
तारिक बादलों सा छट गया हूँ
याद तुम भी जब आये मुझे तो
मैं लेता करवट करवट गया हूँ

शायद लौटूं कभी मैं, अपने निशाँ रहने दो
आज़ार-ए-जाँ है तो आज़ार-ए-जाँ रहने दो

17/06/2020 11:47 AM

Akelapan Shayari

Akelapan Shayari

यूँ तो तुम्हें मैं भूल भी गया था कई बार, NAZM SHAYARI, hindi shayari,

यूँ तो तुम्हें मैं भूल भी गया था कई बार
दिल को समझा भी लिया था कई बार
मैंने अहद-ए-वफ़ा भी था तोड़ दिया
अतीत का दामन भी था छोड़ दिया
पर फिर भी तुमने मुझसे वास्ता रखा
तुम तक आने का इक रास्ता रखा
तुमने अक्सर अतीत से आ-आ कर
प्रेम के भूले-बिसरे नग़्मे गा-गा कर
दिल की बेचैनी को बढ़ाती रही हो
तुम सपना बन-बनके आती रही हो

22/06/2020 1:28 PM

Follow Me 🙂

Share Your Thoughts!

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!