Ghazal Shayari

ThePoetofLove.In has lots of Urdu_Ghazal_Shayari Poetry and Ghazal Lyrics. Feel free to add your own Ghazal_Shayari and Ghazal_Lyrics here.

Ghazal is a collection of Sher's (couplets) which follow the rules of 'Matla', 'Maqta', 'Beher', 'Kaafiyaa' and 'Radeef' which is little longer than other forms of poetry and contains more words and mostly written in 6 to 10 lines. New_Ghazal_ShayariUrdu_Ghazal_Shayari  and  Ghazal_Poetry  are the keywords of this shayari. Here you can learn and read latest Urdu Ghazal Shayari.  Because, we have some of the best_sad_ghazals and romantic_ghazals available on the internet in Hindi and English Script and you can check another categories ishq shayari, love shayari, romantic shayari and sad shayari.

Ghazal Shayari, Koi To Daag Mere Seene Pe

Ghazal shayari, sad shayari, sad status in hindi

कोई तो दाग़ मेरे सीने पे सज़ा दो ना
ज़ख्मे-दिल पे ज़रा-सा मुस्कुरा दो ना

बस यही चिंगारी मिटा सकती है मुझे
इसे ज़रा-सी हवा दो ना, भड़का दो ना

तेरे सिवा ना हो उम्मीदवारी किसी की
मुझे रोग कोई ऐसा तुम लगा दो ना

मेरी जड़ें दफ़न हैं यहाँ की मिट्टी में
मेरी मिट्टी इस मिट्टी में मिला दो ना

तेरे सिवा ना चाहता हूँ कुछ याद रहे
तुम मुझको हर शै अब भुला दो ना

Uski Zulf Se Jab Uljha Hun Main

Shayari, ghazal shayari, photo shayari

उस ज़ुल्फ़ से जब उलझा हूँ मैं
तब जा के कहीं सुलझा हूँ मैं

फ़रेब जो दफ़अतन दे जाए
ज़िंदगी उस को समझा हूँ मैं

( दफ़अतन  - suddenly)
ग़म में भी तो कुछ रौनकें थीं
यूँ शाद हो के तो बुझा हूँ मैं
( शाद - happy, glad, cheerful)
वो पलकें उठीं तो खिला हूँ मैं
वो पलकें झुकी तो मुरझा हूँ मैं

जियूं या मर जाऊं "आकाश"
इसी कश्मकश में उलझा हूँ मैं

03/08/2019 6:44PM
#SunnySinghAkash

Tum Aaj Fir Se Sath Ho Barsat Ki Raat Hai

Barish Ka Mosam

बरसात शायरी, barish shayari, barish ka mosam, barish status in hindi, shayari on barish, barsaat hindi, barsat shayari, monsoon shayari

Monsoon Shayari

Barish Ka Mosam Aur Dilchasp Shayari,

तुम आज फिर से साथ हो बरसात की रात है
दिल-आवेज़ी-ए-नग़्मात हो बरसात की रात है

बूंद - बूंद पिरो ही लेने दो ज़ुल्फ़ों में आज मुझे
इतनी तो दिल पे इनायात हो बरसात की रात है

मैं दुनिया के किस्से सुनते आया हूँ अब तलक
आज तो ज़िंदगी की बात हो बरसात की रात है

कल फिर दुनिया होगी दोनों के दरमियाँ हमारे
बेबस ना कोई ज़ज्बात हो बरसात की रात है

इतना ही काफी है के इश्क़ हुआ मुझे तुम से
अब जीत हो या मात हो बरसात की रात है

आज फिर दिल डूबा जाता है "आकाश" बहुत
उसी की कोई बात हो बरसात की रात है

Mere Dil Mein Bahoot Viraani Hai

बस इतनी - सी ही परेशानी है
के मेरे दिल में बहुत वीरानी है

उसी के हुए सितम मुझ पर
मेरी करता जो निगहबानी है
(निगहबानी - protection,
देख-रेख; रक्षा; हिफ़ाज़त)

वो हर बार करके फ़ैसला ऐसा
मेरी आँखों को देता हैरानी है

मैं बिछड़ तो गया उससे लेकिन
मेरे दिल को अब पशेमानी है
(पशेमानी -repentance,
regret, shame, पछतावा)

रोना तो था ही इक दिन मुझे
हर बात जो दिल की मानी है

Ghazal Shayari

Bas Itni - Si Hi Pareshani Hai
Ke Mere Dil Mein Bahoot Viraani Hai

Usi Ke Hue Sitam Mujh Par
Meri Karta Jo NIgahbani Hai

Wo Har Baar Karke Faisla Aisa
Meri Aankhon Ko deta Hairani Hai

Main Bichhad To Gya Osse Lekin
Mere Dil Ko Ab Pashemani Hai

Rona To Tha Hi Ik Din Mujhe
Har Baat Jo Dil Ki Maani Hai

 

ghazal shayari, hindi urdu ghazal shayari, shayari, poetry

Shayad Hum Mar Chuke Hain Dono
25/06/2019 1:21AM
#SunnySinghAkash

Wo Kuchh Der Se Kahta Main Hi Jaldi Chala Aaya

Use Izhaar-e-Ishq Mein Zara Waqt Lagta Ho Sakta Hai | New Shayari

उसे इज़हार - ए - इश्क़ में ज़रा वक़्त लगता हो सकता है
वो कुछ देर से कहता मैं ही जल्दी चला आया हो सकता है

शायद मुझे ही सलीका ना आया हो मिलने का किसी से भी
मैं सोचता हूँ जितनी उतनी बुरी ना हो दुनिया हो सकता है

उसे जो रास आ गई किसी और की मोहब्बत तो रंज कैसा
मैंने ही कहीं उसे उस की तरह ना हो चाहा हो सकता है

दिल जिस के साथ सोच के बैठा है अब अफ़साना तमाम
उसके साथ लिखा हो कोई और भी किस्सा हो सकता है

बे-ख़ुदी ने मुझे तेरे बाद भी तेरा रखा हुआ है अब तलक
वर्ना शहर-ए-हुस्न की बरहनगी ही मैं देखता हो सकता है
(बे-ख़ुदी -intoxication, अपने-आप से बे-ख़बर होना,
आत्मविस्मृति, अपने आप को भूल जाना)
(बरहनगी - nudity, नग्नता)

Check Out: इक तितली तेरे बारे में फूलों से पूछा करती है

ghazal shayari, ghazal, gazal, shayari, new shayari 2019, new shayari 2020, latest shayari

30/5/19 3:40AM
#SunnySinghAkash
Hijr Shayari, Mujh Mein Ek Baghi Rahta Hai
Yaad Shayari, Har Surat Hi Sanwali Si Lage

Loading...

Leave a Reply

Sponsored

x