Ghazal Shayari

ThePoetofLove.In has lots of Urdu_Ghazal_Shayari Poetry and Ghazal Lyrics. Feel free to add your own Ghazal_Shayari and Ghazal_Lyrics here.

Ghazal is a collection of Sher's (couplets) which follow the rules of 'Matla', 'Maqta', 'Beher', 'Kaafiyaa' and 'Radeef' which is little longer than other forms of poetry and contains more words and mostly written in 6 to 10 lines. New_Ghazal_ShayariUrdu_Ghazal_Shayari  and  Ghazal_Poetry  are the keywords of this shayari. Here you can learn and read latest Urdu Ghazal Shayari.  Because, we have some of the best_sad_ghazals and romantic_ghazals available on the internet in Hindi and English Script and you can check another categories ishq shayari, love shayari, romantic shayari and sad shayari.

Musavvir To Nahi Hu Fir Bhi

Attitude Shayari in Hindi | Attitude Status in Hindi

hindi shayari, attitude shayari in hindi, attitude shayari, ghazal shayari,

ज़माने से तेरी शख़्सियत को रूबरू करवा सकता हूँ
मुसव्विर तो नहीं हूँ फिर भी तेरी तस्वीर बना सकता हूँ
(मुसव्विर - painter, photographer, sculpture)

तुम्हें ही लड़ना होगा अपने हक़ के लिए यहाँ सब से
मैं तो ज्यादा से ज्यादा उम्मीद का दिया जला सकता हूँ

मेरे दुश्मनों को भी है खबर के अपनी पे आ जाऊं तो
मिस्मार कर के मैं उन्हें उन्हीं का मलबा बना सकता हूँ
(मिस्मार - demolished, razed, ruined, तबाह)
(मलबा - debris, refuse, garbage)

तू बस इशारा भर तो कर मुझे कभी मेरे साथ होने का
तेरी सुलगती हसरतों को अपने दिल में भड़का सकता हूँ

तुम्हें जिस ज़माने से है डर मैं उसी से खेला हूँ कई मर्तबा
वो इक राह रोक भी लें तो मैं कई रास्ते बना सकता हूँ

Wo Baatein Jo Kisi Se Naa Kahi

ghazal Shayari, love shayari in hindi, romantic shayari

Ghazal Shayari | Wo Baateein Jo Kisi Se Na Kahi

वो बातें जो किसी से ना कही वो करना चाहता हूँ
मैं तेरा बस एक ख्वाब हक़ीक़त में जीना चाहता हूँ

ये हर पल की मिन्नतों से ऊब गया है अब दिल मेरा
बस इक शाम को कहीं तेरे साथ बैठना चाहता हूँ

जैसे बहारों के आने पे फूलों के लब मुस्कुराते हैं ना
कुछ इस कदर मैं तेरी जिंदगी को देखना चाहता हूँ

मेरा दुनिया से नहीं बस उस से है वास्ता "साहील"
मैं दुनिया की नहीं उसकी नज़र में रहना चाहता हूं

Kab Talak Sath Ye Baisakhi Lekar Chalu

ghazal shayari, sad shayari, sad status in hindi

Urdu Poetry in Hindi Font | Urdu Ghazal Shayari

सहारे तेरी याद के कहाँ तक सफर चलूँ
कब तलक साथ ये बैसाखी ले कर चलूँ

वो ज़हन में इस कदर महक रहा है मेरे
आए खुशबू उसकी जिस भी रहगुज़र चलूँ

ये राह तहज़ीब की बेबसी दे जाती है क्यूँ
मैं शरीफों के मोहल्ले से भी डर डर चलूँ

आ कर उसके शहर में सोचता हूँ "साहिल"
रुकूँ भी पल भर को या फिर गुज़र चलूँ

Main Aur Kuchh Nahi

ghazal shayari, sad shayari, sad status in hindi,

Sad Shayari in Hindi | Ghazal

अपनी खुशी को खुद ही मैं खाया हूँ
मैं और कुछ नहीं वक़्त बस जाया हूँ

खाली जेब में आ गिरे पल सुकून के
यादों की गली में जब चला आया हूँ

मैंने भी चाहा तो था संभलना लेकिन
मैं राह की ठोकरों को बड़ा भाया हूँ

जो दिल के जख्मों को छेड़े वही साज़
मैं भी गीत अक्सर वही गुनगुनाया हूँ

अब भी ना आई मुझको मौत 'साहील'
मैं आग का दरिया भी पार कर आया हूँ

Ik Teri Khatir Khawahishein Tamam Ki Maine

hindi shayari, urdu shayari, ghazal shayari

Tere Zikr Ke Siva Na Koi Baat Ki Maine | Ghazal Shayari

एक तेरी खातिर ख्वाहिशें तमाम की मैंने
तेरे जिक्र के सिवा कोई ना बात की मैंने

तू ढलता रहा शाम सा हर वक़्त जहन में
तेरे जाने से खुशियां सारी निज़ाद की मैंने

हर शै हर कतरा मेरे लहू का तेरे लिए
एक उम्र तेरे लिये रात से विसाल की मैंने

कभी कभी का ही था ये इश्क़ उसका तो
जोड़ रिश्ता उससे जिंदगी फसाद की मैंने

हो जायेंगे इतने बेदर्द ये सोचा ना था कभी
जिसकी गली मैं जिंदगी की शाम की मैंने

बहने लगा मेरे पैरों से लहू तेरे इंतज़ार में
एक तुझसे दूर जाने की क्या बात की मैंनें

Loading...

Leave a Reply

Sponsored

x