Category Archives: Hindi Urdu Ghazal

Follow Me :)

Sunny Singh "Akash"

Sunny Singh is a poet, author and publisher. He lives in Jawali city of India, and he has written various poems (Gazal and Nazm) in Hindi and Urdu language. He is a very creative person and after listening to his poems, fans forced to him to write stories or novels. So, from there, he tried his hand at writing.
Follow Me :)

Latest posts by Sunny Singh "Akash" (see all)

दाग़ दिल के आखिर कहीं तो कोई होगा ही जो धो सके
जरुरी नहीं जो तुम्हारा ना हो सका किसी का ना हो सके

माशूक से बिछड़ जाने का रंज ही इक ऐसा रंज है यारों
दिल में चाहे लाख कसक हो सर-ए-आम ना कोई रो सके

मैं मानता हूँ तुम अब इख़्तियार रखते हो मेरी ज़िंदगी पे
मगर रस्म ये भी हो के ये दिल चंद पराये दर्द भी ढ़ो सके

मेरे तज़ुर्बे कहते हैं के ग़र ज़िंदगी सुकूँ से गुज़ारनी है तो
"आकाश" उसी का हाथ थाम लीजिए साथ चल जो सके

 

sad shayari, sad poetry, love poetry, ghazal shayari,

Follow Me :)

Sunny Singh "Akash"

Sunny Singh is a poet, author and publisher. He lives in Jawali city of India, and he has written various poems (Gazal and Nazm) in Hindi and Urdu language. He is a very creative person and after listening to his poems, fans forced to him to write stories or novels. So, from there, he tried his hand at writing.
Follow Me :)

Latest posts by Sunny Singh "Akash" (see all)

May 2019 New Shayari , Ghazal Shayari

Behad   Hi    Lutf    Hoga   Us  Ki     Zulf     Ki     Bandish     Mein
Duniya   Yun  Hi   Nahi   Lagi   Hai   Use   Pane  Ki   Sazish  Mein

Bazm Se Chhupte-Chhupate Aankhein Dekhti To Hain Use Magar
Fasaad   Ke  Fasaad   Ho   Jayenge   Is   Zara   Si    Lagjish  Mein

Us  ke  Badan   Ki   Khushboo   Mein   Koi   To   Tilism   Hoga  Hi
Jo  Bhigna  Chahta  Hai   Zamana   Khushbuon   Ki  Barish  Mein

Tere  Ishq  Ki   Kachahriyon   Mein   Jo   Dil   Haar   Jate   Honge
Fir    Guzarti    Hogi    Un  Ki    Sari   Umar    Hi    Gardish    Mein

"Akash"  Yun  Hi   Nahi   Padha   Karti   Meri   Ghazalon   Ko  Wo
Kuchh   To   Baat   Hogi   Hi    Aakhir   Meri   Hi   Nigarish   Mein

Ghazal Shayari, May 2019 New Shayari

बेहद ही लुत्फ़ होगा उस की ज़ुल्फ़ की बंदिश में
दुनिया यूँ ही नहीं लगी है उसे पाने की साज़िश में

बज़्म से छुपते-छुपाते आँखें देखती तो हैं उसे मगर
फसाद के फसाद हो जाएंगे इस ज़रा सी लग़्ज़िश में

उसके बदन की खुशबू में कोई तो तिलिस्म होगा ही
जो भीगना चाहता है ज़माना खुशबुओं की बारिश में

तेरे इश्क़ की कचहरियों में जो दिल हार जाते होंगे
फिर गुज़रती होगी उन की सारी उम्र ही गर्दिश में

"आकाश" यूँ ही नहीं पढ़ा करती मेरी ग़ज़लों को वो
कुछ तो बात होगी ही आखिर मेरी ही निगारिश में

Image May 2019 New Shayari, Ghazal Shayari

new shayari 2019, new shayari, ghazal shayari, may 2019

7/5/2019 3:32 PM
#SunnySinghAkash
ये उदास क्यों करने लगा है तेरा अब इश्क़ मुझे | Ghazal Shayari
Ghazal Shayari, Deemak Kha Gayi Dil Ki Hasrat Ko
हम तो तेरे पास कब के चले आये होते सब कुछ छोड़ कर| Sad Shayari

Follow Me :)

Sunny Singh "Akash"

Sunny Singh is a poet, author and publisher. He lives in Jawali city of India, and he has written various poems (Gazal and Nazm) in Hindi and Urdu language. He is a very creative person and after listening to his poems, fans forced to him to write stories or novels. So, from there, he tried his hand at writing.
Follow Me :)

Latest posts by Sunny Singh "Akash" (see all)

New Shayari 2019, Ghazal Shayari

अब क्या बताएं के कौन-कौन सा हुनर आता है
तेरे ज़हन में जो है हमें तो वो भी नज़र आता है

उसकी हुकूमत में इतना भी मिला तो गनीमत है
चलो मुट्ठी भर चावल में कोई तो कंकर आता है

हम ग़र चाहें तो गर्दन से दबोच भी सकते हैं उसे
आज़माने को जो बार-बार हमारा सबर आता है

तेरी बज़्म में हम बोले तो हैं बदहवासी में मगर
खुदा जाने अब किस जानिब से पत्थर आता है

ये क्या मुद्दा ले कर बैठ गया हूँ आखिर मैं भी
देखो ऐसा ही होता है जब वो ना नज़र आता है

मैं तन्हा रहना बेहद पसंद करता हूँ उस पहर
"आकाश" याद वो मुझको जिस पहर आता है

Ghazal Shayari, New Shayari 2019

Ab Kya Batayein Ke Kaun-Kaun Sa Hunar Aata Hai
Tere Zahan Mein Jo Hai Humein To Wo Bhi Nazar Aata Hai

Uski Hukumat Mein Itna Bhi Mila To Ganimat Hai
Chalo Mutthi Bhar Chaval Mein Koi To Kankar Aata Hai

Hum Gar Chahein To Gardan Se Daboch Bhi Sakte Hain Use
Aazmane Ko Jo Baar-Baar Humara Sabar Aata Hai

Teri Bazm Mein Hum Bole To Hain Badhavasi Mein Magar
Khuda Jane Ab Kis Janib Se Pathar Aata Hai

Ye Kya Mudda Le Kar Baith Gya Hun Aakhir Main Bhi
Dekho Aisa Hi Hota Hai Jab Wo Naa Nazar Aata Hai

Main Tanha Rahna Behad Pasand Karta Hun Us Pahar
"Akash" Yaad Wo Mujhko Jis Pahar Aata Hai

Latest Image New Shayari 2019

new shayari, 2019, ghazal shayari
5/5/2019 5:37 AM
#SunnySinghAkash
Attitude Shayari, Aap Mere Dil Ka Armaan Lenge Kya
Ghazal Shayari, Ye Jo Ishq Hai Na Fana Hone ka Bas Jazba Hai
Aadmi Jaan Ke Khata Hai Mohabbat Mein Fareb,IQBAL AZEEM

Follow Me :)

Sunny Singh "Akash"

Sunny Singh is a poet, author and publisher. He lives in Jawali city of India, and he has written various poems (Gazal and Nazm) in Hindi and Urdu language. He is a very creative person and after listening to his poems, fans forced to him to write stories or novels. So, from there, he tried his hand at writing.
Follow Me :)

Latest posts by Sunny Singh "Akash" (see all)

Hindi Shayari Sad Ghazal Shayari

उदास हम फिर हर पल रहेंगे
ग़म ग़र यूँ ही मुसलसल रहेंगे
(मुसलसल - successive, लगातार)

तन्हाईयाँ तो हमने चुन लीं पर
अब उम्र भर हम बे-कल रहेंगे
(बे-कल - restless)

अब कोई ना आएगा आंखों में
अब दरवाजे ये मुक़फ़्फ़ल रहेंगे
(मुक़फ़्फ़ल - lock)

तुम्हारी सूरत के बाद तो ज़माने
हमारे लिए अब मोहमल रहेंगे
(मोहमल - meaningless)

तुम्हारे बाद तो बस ये होगा के
इन आँखों में बस जल-थल रहेंगे
(जल-थल full of water)

Hindi Shayari Sad Imagehindi shayari sad, ghazal shayari, very sad shayari

Follow Me :)

Sunny Singh "Akash"

Sunny Singh is a poet, author and publisher. He lives in Jawali city of India, and he has written various poems (Gazal and Nazm) in Hindi and Urdu language. He is a very creative person and after listening to his poems, fans forced to him to write stories or novels. So, from there, he tried his hand at writing.
Follow Me :)

Latest posts by Sunny Singh "Akash" (see all)

Ghazal Shayari, Kisi Tarah Jo Gar Hum

Yun To  Kuchh Aur  Bhi Hum  Behtar  Ho Jayenge
Kisi  Tarah   Jo  Gar   Hum   Patthar   Ho  Jayenge

Fark   Chahe   Kitna  Hi   Ho   Darmiya.n   Humare
Kisi Jahan Mein Magar Dono Barabar Ho Jayenge

Ataa Hai  Hunar Ye  Faqt Tumhari  Hi Aankhon Ko
Jis Taraf Bhi  Tum Dekhoge  Manzar  Ho Jayenge

Yun Hi  Hari-Bhari Rahein  Faslein  Tere  Gham Ki
Vagarna   Khet  Ye   Dil  Ke  Banzar  Ho  Jayenge

Fir  Laut Ke  Aana Bas  Mein Naa  Hoga  Humare
Jo Khud Hi  Apne Gar  Hum Rahbar  Ho Jayenge

Akl  Mein   Nahi   Baithti   Jinke   Batein   Humari
Kabhi Unhi Ke Liye  Hum Paigamber Ho Jayenge

Uski Yaad  Ke Siva  Naa  Hai  Kuchh  Paas  Apne
Jo Wo Bhi  Naa Rahi  To Fir  Beghar Ho Jayenge

Ghazal Shayari, किसी तरह जो ग़र हम

यूँ तो कुछ  और भी हम  बेहतर  हो जायेंगे
किसी  तरह  जो ग़र  हम  पत्थर हो जायेंगे

फ़र्क चाहे  कितना  ही हो  दरमियाँ  हमारे
किसी जहाँ में मगर दोनों बराबर हो जायेंगे

अता है हुनर ये फ़क्त तुम्हारी ही आँखों को
जिस तरफ भी तुम देखोगे  मंज़र हो जायेंगे

यूँ ही  हरी-भरी  रहें  फसलें  तेरे  ग़म  की
वगर्ना  खेत ये  दिल  के  बंज़र  हो  जायेंगे

फिर लौट के आना  बस में ना होगा हमारे
जो खुद ही अपने ग़र हम रहबर हो जायेंगे

अक्ल में  नहीं बैठतीं  जिनके  बातें हमारी
कभी उन्ही के लिए  हम पैग़ंबर हो जायेंगे

उसकी याद के सिवा ना है कुछ पास अपने
जो वो भी ना  रही तो फिर  बेघर हो जायेंगे

sad romantic shayari, shayari, ghazal shayari
Img Source: Novi.ba

Follow Me :)

Sunny Singh "Akash"

Sunny Singh is a poet, author and publisher. He lives in Jawali city of India, and he has written various poems (Gazal and Nazm) in Hindi and Urdu language. He is a very creative person and after listening to his poems, fans forced to him to write stories or novels. So, from there, he tried his hand at writing.
Follow Me :)

Latest posts by Sunny Singh "Akash" (see all)

Romantic Shayari 2019

वफ़ा की हद से तेरे लिए चाहता हूँ गुज़र जाऊँ
दग़ा जो करूँ तुमसे मैं तो खुदा करे मर जाऊँ

दिल-ओ-जां से पहले भी मैं इश्क़ में तेरे लिए
लहू का क़तरा - क़तरा भी कुर्बां कर जाऊँ

मैं चाहता हूँ के हो जाऊँ पाग़ल इश्क़ में तेरे
मैं चाहता हूँ तेरी आँखों में ही बिखर जाऊँ

मैं जानता हूँ डूब जाऊँगा तेरी आँखों में फिर
दिल चाहता है इस समंदर में पर उतर जाऊँ

बस इतना ही काफी है इस बेवफ़ा ज़माने में
तुम मुझ में ठहर जाओ मैं तुम में ठहर जाऊँ



Romantic Shayari 2019 Image

romantic shayari 2019, new shayari 2019, 2019 Poetry

Follow Me :)

Sunny Singh "Akash"

Sunny Singh is a poet, author and publisher. He lives in Jawali city of India, and he has written various poems (Gazal and Nazm) in Hindi and Urdu language. He is a very creative person and after listening to his poems, fans forced to him to write stories or novels. So, from there, he tried his hand at writing.
Follow Me :)

Latest posts by Sunny Singh "Akash" (see all)

Ghazal Shayari - 2019 New Ghazal

गोया तेरा करीब आना यूँ तो लुभाता है
पर अब जुदा रहने में ही करार आता है

वीरानों की सिम्त जाता हुआ इक रस्ता
मुझको रह-रह कर बार-बार बुलाता है

तुम्हें नाज़ है बहुत यूँ अपने होने पर भी
और मुझे अपना होना भी बहुत सताता है

चाहता हूँ छोड़ दूँ इश्क़ की जद्दोजहद भी
के मेरे अंदर का बुद्ध अब मुझे बुलाता है

मेरी मानो इश्क़ की दुश्वारियों से दूर रहें
जुदा रहें हम अब भी यह इक रास्ता है

पर जाने क्यों अब भी मज़ार-ए-इश्क़ पे
दिल अब भी शम-ए-उम्मीद जलाता है

Ghazal Shayari - 2019 New Ghazal

new ghazal shayari, new shayari

15/12/2018 7:58PM
#SunnySinghAkash

Follow Me :)

Sunny Singh "Akash"

Sunny Singh is a poet, author and publisher. He lives in Jawali city of India, and he has written various poems (Gazal and Nazm) in Hindi and Urdu language. He is a very creative person and after listening to his poems, fans forced to him to write stories or novels. So, from there, he tried his hand at writing.
Follow Me :)

Latest posts by Sunny Singh "Akash" (see all)

गैर के जिस्म में भी तुम्हारा अक्स ढूंढा करता हूँ
मैं तुम्हारी तलाश में कहाँ-कहाँ नहीं भटकता हूँ
मोहब्बत की नस्लों को ही जो मिटा देना चाहती हों
मैं ऐसे रस्मों-रिवाज़ों को जूते की नोक पे रखता हूँ
तुम मिल कर फिर से बिछड़ गए तो क्या होगा
तुम्हारी जुस्तजू में निकला तो हूँ मगर डरता हूँ
ये उदास क्यों करने लगा है तेरा अब इश्क़ मुझे
उस इश्क़ को क्या हुआ मैं जिससे राहत पाता हूँ
तुम्हारा ग़म अब दिल के लहू में भी घुल गया है
तुम्हें जान के दुःख होगा के मैं अब लहू थूकता हूँ
दिल तो निसार कर ही चूका था मैं कब का तुम पर
इक जां बची थी लो आज वो भी निसार करता हूँ
shayari, new shayari, latest shayari, ghazal, ghazal shayari
07/12/2018 11:49AM
#SunnySinghAkash
Follow Me :)

Sunny Singh "Akash"

Sunny Singh is a poet, author and publisher. He lives in Jawali city of India, and he has written various poems (Gazal and Nazm) in Hindi and Urdu language. He is a very creative person and after listening to his poems, fans forced to him to write stories or novels. So, from there, he tried his hand at writing.
Follow Me :)

Latest posts by Sunny Singh "Akash" (see all)

Ishq Shayari, 21st century Ishq Ghazal shayari

रूहों के लिए जज़ा, जिस्मों के लिए सज़ा है
ये जो इश्क़ है न फ़ना होने का बस जज़्बा है

तेरे बदन की जो खुशबू नहीं जिस फ़ज़ा में
मुझको रास ना कतई ऐसी आब-ओ-हवा है

छाई हुई है आसमां पे तेरी ज़ुल्फ़ की घटा
हर फूल का यौवन तेरे बदन की फ़ज़ा है

मेरे दिल पे जो करते हो महसूस ज़ख्म तुम
वो ज़ख्म नहीं तेरा नक़्श-ए-कफ़-ए-पा है

मैंने आज फिर छेड़ दिए तेरे किस्से सरेआम
मुझ से आज फिर से दिल बहुत ही खफ़ा है

New 21st Century Ishq Shayari

ishq shayari, ghazal shayari, new shayari 2019 

27/11/2018 9:28 AM
#SunnySinghAkash

Follow Me :)

Sunny Singh "Akash"

Sunny Singh is a poet, author and publisher. He lives in Jawali city of India, and he has written various poems (Gazal and Nazm) in Hindi and Urdu language. He is a very creative person and after listening to his poems, fans forced to him to write stories or novels. So, from there, he tried his hand at writing.
Follow Me :)

Latest posts by Sunny Singh "Akash" (see all)

Zindabad Shayari | All Time Superhit Shayari

मेरा तो बस तुम ही इक मुक़दर हो
मैं तो बस लहर हूँ, तुम समंदर हो

तुम हो तो फिर नहीं डर किसी का
चाहे ही मेरे आगे फिर लश्कर हो

मैं उतर चूका हूँ अब तेरी आँखों में
तेरी आँखों में चाहे फिर भंवर हो

मैंने तमाम सफर पे चाहा यही के
तेरी ज़ुल्फ़ सा कोई इक शज़र हो

ओढ़ लिया इश्क़ ने वफ़ा का दामन
अब दुनिया चाहे खंज़र चाहे पथर हो

Mushaira Ghazal Shayari

ghazal, new shayari, 2019 shayari

 

Sponsored

Like on Facebook

Share This Post!

x